cup rahna sekho

अच्छा है चुप रहना सीखो ।

लेकिन सच भी कहना सीखो।

झूठ दूर तक कब चलता है।

कड़वा सच भी सहना सीखो।

हवा के संग बहता जाता है। 

अपने पाँव पर रहना सीखो।

दिल पत्थर ही ना बन जाये।

आँसू बन कर बहना सीखो।

अगर मज़े से रहना है तो।

किसी के दिल में रहना सीखो

झूठी शान में जीवन खोया।

अब जिल्लत में रहना सीखो।

हार जीत सब बेमानी है।

गिर-गिर उठते रहना सीखो ।।