www.poetrytadka.com

chalo ab jane bhi do

चलो अब जाने भी दो क्या करोगें दास्ताँ सुन कर,
खामोशी तुम समझोंगें नहीं और बयां हमसे होगा नहीं