bhojpuri shayri

bhojpuri shayri

रूह समाईल बा ई देह में, देह इ जहान में फसल बा!

 

ज़िंनगी ईहे सिलसिला से बस आगे बढ़ रहल बा!!

मुख्य पेज पर वापस जाए