www.poetrytadka.com

Bas ksoor itna tha ki beksoor the hum

जीना चाहा तो जिंदगी से दूर थे हम

मरना चाहा तो जीने को मजबूर थे हम

सर झुका कर कबूल कर ली हर सजा

बस कसूर इतना था कि बेकसूर थे हम