www.poetrytadka.com

baat mere tanhai ki

अंगड़ाई पर अंगड़ाई लेती है रात जुदाई की !
तुम क्या समझो तुम क्या जानो बात मेरी तन्हाई की !!