www.poetrytadka.com

Mirza Ghalib Shayari

2022-06-09 17:04:55

आह को चाहिए इक उम्र असर होते तक,
कौन जीता है तिरी ज़ुल्फ़ के सर होते तक.
Aah ko chaahie ik umr asar hote tak,
kaun jeeta hai tiree zulf ke sar hote tak.

Aah Ko Chahiye

Mirza Ghalib

guzar jaaega ye dour bhi ghalib zra itminan to rakh

jab khushi na thahri to gaam ki kya aoukat hai

Guzar jaega

laife-quotes-on-mirza-ghalib

जैसे ही भय आपके करीब आये  उस पर आक्रमण कर उसे नष्ट कर दीजिये !!

Jaise hi daar aap ke kreeb aaae

संतुलित दिमाग जैसी कोई सादगी नहीं है  संतोष जैसा कोई सुख नहीं है लोभ जैसी कोई बीमारी नहीं है और दया जैसा कोई पुण्य नहीं है !!

Dya jaisa koi puny nahi

Har Baat Pe kahte ho tum ki too kya hai, tumhe kaho ye andaaz-a-guftagoo kya hai.

Kya Hai Mirza Ghalib Love Shayari

kya-hai-mirza-ghalib-love-shayari-in-hindi