www.poetrytadka.com

Ahmad Faraz Shayari

2022-02-16 13:56:34
तमाम उम्र उसके ख्याल मेँ गुजार दी यारो !
मेरा ख्याल जिसे उम्र भर नहीं आया !!

Tamaam Umar

उँगलियाँ आज भी इस सोच में गुम हैं फ़राज़ !
उसने कैसे नए हाथ को थामा होगा !!

Usne Kaisey Naye haath

usne-kaisey-naye-haath
मोहब्बत मिली तो नींद भी अपनी न रही फराज !
गुमनाम ज़िन्दगी थी तो कितना सुकून था !!

Gumnaam Zindagi thi

सबसे बेस्ट शायरी Click Here