apni nafrto ke

अदावत तो है अपनी नफरतों के रहनुमाओं से

जो दिल में दे जगह उससे भला न क्यूँ सुलह कर लें

मुख्य पेज पर वापस जाएँ