Poetry Tadka

allama iqbal shayari

मत कर खाक के पत्ते पर गुरूर वबे न्याजी इतनी 

खुद को खुद में झांक कर देख तुझ में रक्खा क्या है 

allama iqbal shayari quotes