Adult shayari in hindi

adult shayari in hindi

hijr ki tanhai kuch yun gujar lete hai
jab akele rehte hai to selfi nikal liya karte hai
हिज्र की तन्हाई कुछ यूँ गुजर लेते है
जब अकेले रहते है तो सेल्फी निकाल लिया करते है

baal apne badhate ho kis ke waste
kya saher mohabbat main koi hajjam nahi hota
बाल अपने बढाते हो किस के वास्ते
क्या सहर मोहब्बत मैं कोई हजम नहीं होता

Read More