www.poetrytadka.com

ab tujhe roz naa

अब तुझे रोज़ ना सोचें तो तड़प उठते हैं हम !
एक उम्र हो गयी है तेरी याद का नशा करते करते !!