www.poetrytadka.com

aap chahe rho nazro se door

बेताब तमन्नाओ की कसक रहने दो !
मंजिल को पाने की कसक रहने दो !
आप चाहे रहो नज़रों से दूर !
पर मेरी आँखों में अपनी एक झलक रहने दो !!