www.poetrytadka.com

aadat nhi thi mushkurane ki

आदत नहीं थी मुस्कुराने की मुझे, बे मोल थी जिंदगी !
पर जब से तुमने लबो पे मेरे हंसी दी
अनमोल हो गई है कीमत मेरी !!