zamane ki kya aukat

खुदा ने लिखा ही नही तेरा मेरा साथ
वरना ज़माने की क्या औकात की हमें जुदा करदे.

Read More शायरी संसार