khwab shayari


adhure sapne status

adhure sapne status

सामान बाँध लिया है मैंने अपना अब बताओ,

कहाँ रहते हैं वो लोग जो कहीं के नहीं रहते

shayari on adhure khwab

shayari on adhure khwab

वो साथ थी तो मानो जन्नत थी जिंदगी,

अब तो हर सांस जिंदा रहने की वजह पूछती है.

khawab shayari on facebook

khawab shayari on facebook

मेरी सरगोशियां जब खामोशियाँ बन जाएं?
मेरी तनहाइयाँ तेरी मजबूरिया न बन जाएं

khwab shayari in hindi

khwab shayari in hindi

मैंने शाहों की मोहब्बत का भरम तोड़ दिया
मेरे कमरे में भी एक ताजमहल रखा है

loading...
2 line khwab shayari

2 line khwab shayari

ख्वाबों में आ कर सताते हो क्यूँ मुझको
खुद सोते हो चैन से और मुझे जगाते हो

loading...