poetrytadka dard

poetrytadka dard

जब दर्द हदसे गुज़र जाता है तब इन्सान रोता नही खामूश हो जाता है

from Tadka Shayari


loading...
loading...