kab aarhi ho

कब आ रही हो मुलाक़ात के लिए

मैंने चाँद को रोका है इक रात के लिए

Read More हिंदी शायरी